Home राष्ट्रीय कोरोना वैक्सीन को लेकर नए साल पर मिलेगी बड़ी खुशखबरी, आज अहम...

कोरोना वैक्सीन को लेकर नए साल पर मिलेगी बड़ी खुशखबरी, आज अहम बैठक…

141

कोरोना वायरस के नए स्ट्रेन से फैले कहर के बीच दो जनवरी को होने वाले देश के सभी राज्यों में ड्राई रन से पहले वैक्सीन की आपात इस्तेमाल को लेकर आज एक अहम बैठक है। भारत सरकार की केंद्रीय औषधि मानक नियंत्रण संगठन (सीडीएससीओ) के विशेषज्ञों की समिति फाइजर और ऑक्सफोर्ट समेत कई टीकों के आपात इस्तेमाल की मंजूरी को लेकर अहम बैठक के बाद इस पर फैसला लेगी। यह बैठक इसलिए भी अहम है क्योंकि विश्व स्वास्थ्य संगठन ने फाइजर की वैक्सीन को इमरजेंसी यूज के लिए मंजूरी दे दी है और भारत सरकार की समिति के मंथन की लिस्ट में यह भी शामिल है।

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक, (सीडीएससी) के विशेषज्ञों की समिति ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी के कोविड-19 टीके के आपात इस्तेमाल की अनुमति देने के सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया के आग्रह और ‘कोवैक्सीन’ के आपात इस्तेमाल को अनुमति देने के भारत बायोटेक के आग्रह पर विचार करने के लिए आज यानी एक जनवरी को फिर से बैठक करेगी।

स्वास्थ्य मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि समिति ने टीकों के आपात इस्तेमाल की अनुमति देने के सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया, फाइजर और भारत बायोटेक प्राइवेट लिमिटेड के आग्रह पर विचार करने के लिए आज दोपहर बाद बैठक की। बता दें कि इससे पहले बुधवार को भी इस समिति ने बैठक की थी। कोविड-19 संबंधी विशेषज्ञ समिति ने सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया और भारत बायोटेक द्वारा सौंपे गए अतिरिक्त विवरण का विश्लेषण किया।

कल पूरे देश में ड्राई रन
केंद्र ने गुरुवार को कहा कि दो जनवरी को सभी राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों द्वारा कोविड-19 टीकाकरण का पूर्वाभ्यास (ड्राई रन) किया जाएगा। इस कवायद को सभी राज्यों की राजधानियों में कम से कम तीन सत्र स्थलों पर अंजाम दिए जाने का प्रस्ताव है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि कुछ राज्यों में इस कवायद को ऐसे जिलों में भी अंजाम दिया जाएगा जहां पहुंच आसान नहीं है तथा जहां साजो-सामान संबंधी सुविधाओं की अच्छी व्यवस्था नहीं है।

केंद्र सरकार ने सभी राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों से कोविड-19 टीकाकरण का पूर्वाभ्यास शुरू करने की प्रभावी तैयारियां शुरू करने को भी कहा है। केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने बृहस्पतिवार को प्रधान स्वास्थ्य सचिवों और सभी राज्यों एवं केंद्रशासित प्रदेशों के अन्य स्वास्थ्य अधिकारियों के साथ एक उच्चस्तरीय बैठक की और कोविड-19 टीकाकरण के लिए सत्र स्थलों पर तैयारियों की समीक्षा की