Home राजनीति बजट ने पूर्वांचल के लोगों को निराश किया-अनूप पांडये

बजट ने पूर्वांचल के लोगों को निराश किया-अनूप पांडये

20

देवरिया 4 फरवरी सरकार ने २०२१का बजट मे पूर्वोत्तर भारत को किया निराश यह बजट नहीं देश की लाभकारी कंपनियों को बेचने वाला दस्तावेज है।
उक्त बातें आम आदमी पार्टी उत्तर प्रदेश के सह प्रभारी एवं पूर्वांचल विंग के अध्यक्ष अनूप पांडेय ने कहा।
श्री पांडेय ने आगे कहा कि पूर्ववर्ती सरकारों में जो बजट पेश होता था उसमें कल कारखानों सरकारी उपक्रम को सबल और मजबूत बनाने पर बल दिया जाता था एवं नए कारखाने लगाने सरकारी संसाधनों की सबलता क्षमता के लिए प्रावधान होता था लेकिन अफसोस और दुख के साथ कहना पड़ता है कि यह सरकार भारत के लोगों की जमा पूंजी को भी निजीकरण कर रही है कारपोरेट घरानों को भेच रही है इस बजट में रोजगार सृजन की कोई बात नहीं हो रही है ।
सरकारी उपक्रमों को सरकार समाप्त कर कारपोरेट घरानों को अवसर प्रदान कर रही है।
श्री पांडे ने आगे बताया कि ₹6200करोड़ शिक्षा के क्षेत्र में कम कर दिया गया. वहीं किसान हित का ढोल नगाड़ा पीटकर सरकार आगे आई है किसान सम्मान निधि का बजट भी ₹75000 से घटाकर के ,65000 कर दिया गया.
श्री पांडेय ने कहां वर्तमान सरकार का बजट घोर निराशा जनक है। महंगाई और बेकारी बढ़ाने वाला है मध्यम श्रेणी के लोगों का कोई भी ध्यान नहीं रखा गया है भारत की आर्थिक स्थिति को और अस्थिरता के तरफ ले जाने वाला है।
श्री पांडे ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री जी के ऊपर आरोप लगाते हुए कहा कि पूर्वांचल विकास बोर्ड का आज कितना बजट है और वर्तमान केंद्र सरकार द्वारा जारी बजट में पूर्वांचल विकास बोर्ड को क्या मिला माननीय मुख्यमंत्री जी को इसे सार्वजनिक करना चाहिए
श्री पांडेय ने कृषि कानून को वापस लेने की मांग करते हुए कहा कि इस देश में ईस्ट इंडिया कंपनी थी जो देश के संसाधनों का शोषण करती थी और जब देश के लोग विरोध करते थे तो जेलों में डाल कर यातनाएं देती थी।
आज घूम फिर कर के फिर हमारा देश प्राइवेट कंपनियों के हाथों में जा रहा है और देश के लोगों द्वारा विरोध करने पर यातनाएं दी जा रही।